मुदालियर आयोग (1952-1953) | माध्यमिक शिक्षा आयोग

केन्द्रीय शिक्षा सलाहकार बोर्ड की अनुसंशा पर भारत सरकार ने 23 सितम्बर 1952 ई० को डा० लक्ष्मणस्वामी मुदालियर की अध्यक्षता में माध्यमिक शिक्षा आयोग का गठन किया। इस आयोग में अध्यक्ष, सदस्य सचिव तथा सहायक सचिव के अतिरिक्त 7 अन्य सदस्य थे। आयोग को जांच हेतु माध्यमिक शिक्षा के उद्देश्य, संगठन विषयवस्तु तथा अन्य शिक्षा …

मुदालियर आयोग (1952-1953) | माध्यमिक शिक्षा आयोग Read More »

राधाकृष्णन आयोग (1948-1949) | विश्वविद्यालय आयोग

राधाकृष्णन आयोग का गठन 4 नवम्बर 1948 ई० में किया गया। राधाकृष्णन आयोग के अध्यक्ष डा० सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी थे। आयोग ने 25 अगस्त 1949 को लगभग 747 पृष्ठों की अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की। आयोग के प्रमुख उद्देश्य में शिक्षित नागरिक तैयार करना, प्रजातान्त्रिक मूल्यों को स्थापित करना, सांस्कृतिक धरोहर का संरक्षण करना, राष्ट्रीय एकता …

राधाकृष्णन आयोग (1948-1949) | विश्वविद्यालय आयोग Read More »

ब्रिटिश काल में भारतीय शिक्षा (1813-1944) | British Kalin Shiksha

ब्रिटिश कालीन शिक्षा के कोई स्पष्ट उद्देश्य नहीं थे फिर भी कुछ बिन्दुओं के सन्दर्भ में अध्ययन किया जा सकता है – भारतीयों का बौद्धिक व नैतिक विकास। भारत में यूरोपियन साहित्य तथा विज्ञान का विकास। भारतीयों का आर्थिक विकास। भारतीयों को अंग्रेजी शासन में सहायता के लिए तैयार करना। शिक्षा के पाठ्यक्रम ब्रिटिश कालीन …

ब्रिटिश काल में भारतीय शिक्षा (1813-1944) | British Kalin Shiksha Read More »

सार्जेन्ट योजना 1944 | Sarjent Yojana

1944 ई० में इंग्लैण्ड में वटलर शिक्षा आयोग के समकालीन भारत में केन्द्रीय शिक्षा बोर्ड में जान सार्जेन्ट की अध्यक्षता में एक समिति गठित की जिसकी रिपोर्ट को सार्जेन्ट योजना के नाम से जाना जाता है। पूर्व प्राथमिक शिक्षा के सन्दर्भ में सार्जेन्ट के सुझाव  पूर्व प्राथमिक का पाठ्यक्रम 3 से 6 वर्ष रखा जाए …

सार्जेन्ट योजना 1944 | Sarjent Yojana Read More »

भारत सरकार अधिनियम 1935

साइमन कमीशन की रिपोर्ट सर्वदलीय कांफ्रेंस की रिपोर्ट गोलमेज सम्मलेन के प्रस्ताव आदि अधिनियम को ध्यान में रखकर केन्द्रीय सरकार ने 1935 में भारतीय शासन अधिनियम पारित किया। शिक्षा को केन्द्रीय तथा प्रान्तीय दोनों सरकारों के तहत रखा गया। केन्द्रीय सरकार ने अपने अधिकार क्षेत्र में काशी विश्वविद्यालय, अलीगढ़ विश्वविद्यालय, प्रमुख पुस्तकालय, प्राचीन तथा ऐतिहासिक …

भारत सरकार अधिनियम 1935 Read More »

हर्टांग समिति 1929 | Harting Samiti

द्वैध शासन व्यवस्था के चलते भारतीयों में राजनैतिक, सामाजिक द्वेष व्याप्त था। जिसे शान्त करने के लिए 8 नवम्बर 1927 को जान साइमन की अध्यक्षता में एक समिति भारत आयी जिसे साइमन कमीशन कहा गया। भारतीयों की शिक्षा का अध्ययन करने हेतु फिलिप हर्टांग की अध्यक्षता में एक कमीटी गठित की गई जिसे हर्टांग कमीटी …

हर्टांग समिति 1929 | Harting Samiti Read More »

कलकत्ता विश्वविद्यालय आयोग (1917-1919)

भारतीय शिक्षा सम्बन्धी सरकारी प्रस्ताव 1913 के प्रभावशाली रूप से लागू न होने के कारण 1917 ई० में कलकत्ता विश्वविद्यालय आयोग का गठन किया गया। कलकत्ता विश्वविद्यालय आयोग के अध्यक्ष डा० माइकल सैडलर थे। जोकि लीड्स विश्वविद्यालय (इंग्लैण्ड) के तात्कालीन कुलपति थे। कलकत्ता विश्वविद्यालय आयोग में डा० आशुतोष मुखर्जी तथा डा० जियाउद्दीन अहमद के रूप …

कलकत्ता विश्वविद्यालय आयोग (1917-1919) Read More »