200 + अनेक शब्दों के लिए एक शब्द

आज के नोट्स मे आप हिन्दी व्याकरण मे अनेक शब्दों के लिए एक शब्द  टॉपिक (anek shabdon ke liye ek shabd) के बारे मे विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे। जिसमे मैंने लगभग 200 वाक्य हेतु एक शब्दों का संग्रह किया है।

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द की परिभाषा

ये वे शब्द होते हैं जो एक वाक्यांश का अर्थ देते हैं।

जैसे – जो कुछ भी न जानता हो – अज

  
जो भारत और यूरोप से संबन्धित होभारोपिय
दीवार पर बना चित्रभित्तिचित्र
गर्भस्थ शिशु की हत्याभ्रूण हत्या
भाषा विज्ञान का विद्वानभाषाविद
वह काव्य जिसका अभिनय हो सकेरूपक
रानी के रहने वाला स्थानरनिवास
युद्ध लड़ने की इच्छा रखने वालायुयुत्सा
जो कोई वस्तु मांगता हैयाचक
क्रम के अनुसारयथाक्रम
जिसकी रक्षा करना उचित होरक्षणीय
जिसने यश प्राप्त किया होयुधिष्ठिर
यज्ञ करने या कराने वालायाज्ञिक
युग का निर्माण करने वालायुग निर्माता
हमेशा घूमते रहने वालायायावर
कम बोलने वालामितभाषी
सूक्ष्म भोजन करने वालामिताहारी
कम खर्च करने वालामितव्ययी
झूठ बोलने वालामिथ्यावादी
मोक्ष की इच्छा रखने वालामुमुक्ष
जो मूल से संबन्धित होमौलिक
दोपहर का समयमध्याह्न
मछली के समान जिसकी आँखें होंमीनाक्षी
मांस का भक्षण करने वालामांसाहारी
जो मृत्यु के समीप होमरणासन्न
मृत्यु का इच्छुकमुमूर्ष
जो व्यक्ति भाग्य पर विश्वास करता होभाग्यवादी
जो मृत्यु पर विजय प्राप्त कर लिया होमृत्युंजय
जो भूमि का धारण करता होभूधर
जिसका भोग करना उचित होभोग्य
जिसका आकार होसाकार
जिसका मन उचट गया होउदासीन
जो हसने योग्य होहास्यास्पद
जो अभी पैदा हुआ होनवजात
जिसका जनता से सम्बंध होसार्वजनिक
ईश्वर को न मानने वालानास्तिक
जो बहुत जानता होबहुज्ञ
धर्म को जानने वालाधर्मज्ञ
लाभ की इच्छालिप्सा
जो आसानी से मिल सकेसुलभ
नगर मे रहने वालानागरिक
तप करने वालातपस्वी
इतिहास लिखने वालाइतिहासकार
जिसका विवाह न हुआ होअविवाहित / रडूआ
अधिक बोलने वालावाचाल
जो हाथ मे आ गया होसदाचारी
जिसे अक्षर ज्ञान होसाक्षर
बिना खिला फूलकली
जानने का इच्छुकजिज्ञासु
निंदा करने योग्यनिंदनीय
जो गाया जा सकेगेय
शीघ्र चलने वालाद्रुतगामी
जो देखने योग्य होदर्शनीय
शिव का उपासकशैव
लगा रहने वालाकर्मठ
जिनका काल समान होसमकालीन
जिसने इंद्रियों को जीत लिया होइंद्रजीत
घर बसाकर रहने वालागृहस्थ
इन्द्र का हाथीऐरावत
विपत्ति मे फंसा व्यक्तिविपन्न
शरण मे आया हुआशरणागत
जिसका आचरण अच्छा होसदाचारी
जहाँ जाना कठिन होदुर्गम
जिसने ऋण चुका दिया होउऋण
गंगा जमुना सरस्वती का संगमत्रिवेणी
जिसे जीता न जा सकेअजेय
जिसके हाथ मे चक्र होचक्रपाणि
उपकार को न मानने वालाकृतघ्न
जिसके माता पिता न होंअनाथ
जो कुछ भी न जानता होअज्ञ
सरकारी गज़ट मे छपी सूचनाअधिसूचना
जो जानने योग्य होश्रेय
जो समतल न होअसम
जो खाने योग्य न होअखाद्य
जिसे जाना न जा सकेअज्ञात
जीवन भर के लिएआजीवन
आशा से बहुत अधिकआशातीत
जिसका कोई शत्रु न होअजातशत्रु
जो बाद मे हुआ होअनुज
जो बीत चुका होअतीत
जो अभिनय करता होअभिनेता
जिसकी कोई उपमा न होअनुपम
जो दिखाई न देता होअदृश्य
जिसकी कभी मृत्यु न होअमर
जो पढ़ा लिखा न होअनपढ़
जो गिना न जा सकेअगणित
ईश्वर मे आस्था रखने वालाआस्तिक
जो कभी संभव न होअसंभव
जिसका अंत न होअनन्त
जो कहा न जा सकेअकथनीय
जिसकी कोई तुलना न होअतुलनीय
आलोचना करने वालाआलोचक
तारों से भरी रातविभावरी
एक ही माँ से पैदा भाईसहोदर
संसर्ग से फैलाने वाला रोगसंक्रामक
चाँदनी रातशर्वरी
जो अपने आप से उत्पन्न हुआ होस्वयंभू
गरीबो को नित्य भोजन देनासदावर्त
जिसकी पत्नी साथ मे होसपत्नीक
व्याकरण का ज्ञातावैयाकरण
  
हंस के समान चलने वालीहंसगामिनी
जिसे अपने स्थान से हटाया गया होविस्थापित
जिसकी आत्मा महान होमहात्मा
भवनों का खंडहरभग्नावशेष
आकाश मे चरने वालानभचर
नया आने वालानवागन्तुक
पक्ष – विपक्ष से अलगतटस्थ
सिक्के ढालने का कारख़ानाटकसाल
वह स्त्री जिसका पति रात भर बाहर रहकर सुबह घर लौटेखंडिता
सदा हाथ मे तलवार लिएखड्गहस्त
ऋषि का कथनआर्ष
सिर से लेकर पैर तकआपाद मस्तक
महल के भीतर का भागअन्तः पुर
जिसका ज्ञान इंद्रियों से संभव न होअगोचर
जो कुछ भी न जानता होअज
जो पहले न सुना गया होअश्रुतपर्व
जो पहले न देखा गया होअदृष्टपूर्व
निम्न जाति का व्यक्तिअत्याज्य
अधिक संचय करनाअपरिग्रह
जिसका जन्म कभी न होअजन्मा
ऐसा रोग जो ठीक न हो सकेअसाध्य
दूसरों के गुणो मे दोष खोजनाअसूया
पूर्व और दक्षिण का कोनाअग्निकोण
गुरु के समीप रहने वालाअत्तेवासी
जो ग्रहण न किया जा सकेअग्राध्य
जो देनी योग्य न होअदेय
परम्परा द्वारा सुनी हुई बातअनुश्रुति
लगनशील और परिश्रमीअध्यवसायी
जो दूसरों का उपकार नहीं मानता हैकृतघ्न
जो दूसरों का उपकार मानता हैकृतज्ञ
एक आँख वालारकाक्षी
एक बार भोजन करने वालाएकाहारी
खाने से बचा भोजनउच्छिष्ट
विदेश से सामान मंगानाआयात
पवित्र आचरण वालाआचार पूत
चार पैरों वाला पशुचतुष्पद
छिपे वेश मे रहने वालाछदमवेषी
चौथे दिन आने वालाचौथिया
पद्य – गद्य मिश्रित साहित्यचम्पू
कार्य करने का इच्छुकचिकीर्षु
बौद्ध भिक्षुओ का वस्त्रचीवर
वह स्थान जहाँ सेना रहती हैछावनी
तीन कालों की बात जानने वालात्रिकालज
साँठ, मिर्च, पीपलत्रिकुटा
जिसे वश मे करना कठिन होदुर्दम
जहाँ पर एक भी आदमी न होनिर्जन
धन का कोषाध्यक्षधनद
जंगल मे अपने आप लगने वाली आगदावानल
वह कार्य जिसे करना कठिन होदुष्कर
संकीर्ण विचारों वालादक़ियानूसी
दूर की बात सोचने वालादूरदर्शी
जिसको सिद्ध करना कठिन होदुः साध्य
नाक से खून बहनानकसीर
बहुत सुनकर ज्ञानार्जन करने वालाबहुश्रुत
पद से हटाया हुआपदच्युत
विरोध करने वालाप्रतिवादी
प्यासा व्यक्तिपिपासु
जुआ खेलने का स्थानफड़
एक से अधिक रूप धारण करने वालाबहुरूपिया
जल मे लगने वाली आगबड़वानल
प्रातः काल गाने वाला गीतप्रभाती
हँसाने वाली कथाप्रहसन
ऐसा वाक्य जिसका उत्तर खोजा जाता हैप्रहेलिका
तुरंत किसी बात को सोच लेने वालाप्रत्युत्पन्नमति
मापने मे समर्थप्रतिमान
फूलों का गुच्छास्तवक
सर्दी – गर्मी जहाँ नियंत्रित होवातानुकूलन
जहाँ मुफ्त भोजन मिलता होसदावृत
वीर पुत्रो को जन्म देने वालीवीर प्रसूता
स्त्रियो के प्रति अधिक लगाव रखने वालास्त्रैण
जिसे सुई भेद सकेसूची भेघ
सात रंगों वालासतरंग
जिसका पति जीवित होसधवा
शब्द पर निशाना लगाने वालाशब्द भेदी
बुरे मार्ग पर चलने वालाविपथगा
किसी सभा का सदस्यसभासद
समान अवस्था वालासमवयस्क
सहन करने वालासहिष्णु
सबको समान देखने वालासमदर्शी
जो मान – सम्मान के योग्य होमाननीय
जिसकी स्त्री मर गई होविधुर
जिस स्त्री का पति मर गया होविधवा
किसी की नकल न होमौलिक
मृग जैसे नैन वालीमृगनयनी
बच्चों को सुलाने वाला गीतलोरी
समान रूप से ठंडा और गर्मसमशीतोष्ण
रोंगटे खड़े कर देने वालारोमांचकारी
शहद, दही, शक्करमधुपर्क
जैसा चाहिए वैसायथोचित
हमेशा घूमने वालायायावर
सौ वर्ष का समयशताब्दी
यज्ञ करने वालायार्जक
लिपि का शास्त्रलिपिशास्त्र
वसुदेव पुत्रवासुदेव
जिसके हाथ मे वीणा हैवीणापाणि
छः कोनों वाली आकृतिषट्कोण
स्वीकार करने वालावरण्य
खून से सना हुआरक्तरंजित
जिसका वर्णन न हो सकेवर्णानातीत

हिन्दी व्याकरण …

Best Hindi Grammar Book – Buy Now

हिन्दी वर्णमालाकारक
शब्दवाच्य
वाक्यवचन
हिन्दी मात्राउपसर्ग
संज्ञाविराम चिन्ह
सर्वनामअविकारी शब्द
क्रियाराजभाषा और राष्ट्रभाषा
विशेषणपर्यायवाची शब्द 160 +
सन्धितत्सम और तद्भव शब्द
समासअनेक शब्दों के लिए एक शब्द
हिन्दी मुहावरा एवं लोकोक्तियांकाल किसे कहते है काल के प्रकार
औपचारिक पत्र, अनौपचारिक पत्र लेखन  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *